लड़कियों के दुश्मन बन चुके ' अपनों ' को कैसे पहचाने ?

यूज करें सिक्स्थ सेंस
सायकायट्रिस्ट कहते हैं , ' लड़कियों के पास सिक्सस सेंस होती है। अगर वे इसका इस्तेमाल करें , तो अपराधी की पहचान पहले ही की जा सकती है। 

अगर आपका कोई रिलेटिव आपसे कुछ ज्यादा घुलने - मिलने की कोशिश करे या आपकी हर एक्टिविटीज पर निगाह रखे। उसे हर वक्त इस बात का ख्याल रहता हो कि आप क्या पहन रही हैं या कहां जा रही हैं। तो समझ जाइए कि उसके इरादे ठीक नहीं हैं।

अगर वह किसी भी तरीके से आपसे बात करने की कोशिश करता है या आपको बहुत ज्यादा इम्पोर्टेंस देता है , तो आप उसे तुरंत डांट लगा दें और अपने पैरंट्स इस बारे में जानकारी जरूर दें। ताकि वह बाद में कोई उलटी सीधी हरकत करने की कोशिश करे , तो मामला आपके पैरंट्स की जानकारी में रहे। अगर मामला सबकी नजर में रहेगा , तो आपसे किसी भी तरह की बदतमीजी या और कोई हरकत करने से डरेगा। '

खतरनाक हैं ड्रग एडिक्ट
देखने में आया है कि आपके अपनों द्वारा रेप या बदतमीजी जैसे केसेज होने के चांस तब ज्यादा होते हैं , जब आरोपी ड्रग्स वगैरह लेता है।

सायकायट्रिस्ट  कहते हैं , ' ऐसी घटना किसी के भी साथ हो सकती है। अगर लड़की कुछ बातों का ध्यान रखे , तो ऐसे एक्सिडेंट से बचा जा सकता है। मसलन अगर आपका कोई रिलेटिव आपके सामने बहुत ज्यादा अच्छा या इनोसेंट बने या नॉर्मल बात न करे। आपसे जबर्दस्ती दोस्ती करना चाहे। जरूरत से ज्यादा अपनापन दिखाए। आपके करीब आने की कोशिश करे , तो सावधान हो जाइए और ऐसे इंसान से दूरी बना लें। '

दरअसल , इस तरह की घटनाओं में दोषी ज्यादातर ड्रग एडिक्ट होते हैं। अगर आपका कोई रिलेटिव ड्रग्स लेता है और उसका बिहेव भी अजीब है , तो आप उसके झांसे में कतई न आएं। बेहतर होगा कि उससे बातचीत करना बंद कर दें। ये कुछ ऐसी बातें हैं , जिनसे आप इस तरह की घटनाओं से बच सकती हैं।

अपनी सेफ्टी , अपने हाथ
आप अपने सेफ्टी को लेकर बेहद कॉन्शस रहती हैं , बावजूद इसके सिरफिरों से निपटना बेहद मुश्किल है। समीर पारिख कहते हैं , ' वैसे तो रेप और छेड़छाड़ जैसी घटनाओं को रोक पाना बेहद मुश्किल है। लेकिन यह भी सही है कि ऐसे लोगों की पहचान की जाए , तो उन्हें कैच कर पाना आसान होता है। '

वहीं सायकायट्रिस्ट  कहते हैं , ' किसी इंसान के मन में क्या चल रहा है ? यह जान पाना बेहद मुश्किल काम है। लेकिन आपके रिलेटिव का कैसा नेचर है। उसके देखने के नजरिए या बात करने के तरीके से इस बारे में काफी कुछ समझा जा सकता है। ऐसे में आप किसी को लेकर कोई भी गलतफहमी न पालें और पहले ही सावधान हो जाएं। इसके अलावा , लड़कियों को हर वक्त अपने साथ सेल्फ प्रोटेक्शन के कुछ हथियार जरूर रखना चाहिए , ताकि वक्त आने पर उसे यूज कर सकें। साथ ही , आपको सेल्फ डिफेंस का कोर्स भी करना चाहिए , ताकि आप अपनी सुरक्षा खुद कर सकें। '