क्या वास्तु परिवर्तन से जीवनशैली परिवर्तित हो सकती है ?



किसी व्यक्ति के जीवन में वास्तु का क्या महत्व होता इस तथ्य की हम नीचे उल्लेखित लेख से भली प्रकार समझ सकते है :

सवाल 
मैं दो वर्ष से इस किराए के मकान में रह रहा हूं। इस मकान में आने से पहले हम सुख-पूर्वक जीवन निर्वाह कर रहे थे। लेकिन इस मकान में आने के बाद हमारे व्यापार में नुकसान, गृह-कलह तथा बीमारियां इत्यादि समस्याओं से परेशान हैं। किराए के मकान में फेरबदल करवाना संभव नहीं है। कृपया हमारा मार्गदर्शन करें।

जबाब 
इस मकान में आने से पहले आपका जीवन सुख-पूर्वक व्यतीत हो रहा था, लेकिन इस मकान में आने के बाद से ही आपके जीवन में समस्याएं पैदा होनी शुरू हो गई, अत: आप स्वयं स्पष्ट तौर पर यह समझ सकते है कि वास्तु परिवर्तन, इंसान की जीवनशैली को, उस बदली हुई वास्तु के अनुसार परिवर्तित कर देता है।

अवलोकन 
इस मकान के बाहरी एवं आंतरिक हिस्से का उत्तर-ईशान कटा हुआ होना तथा कटे हुए उत्तर-ईशान के हिस्से में सीढ़ियां होने के कारण पैदा होने वाले वास्तु दोषों के दुष्परिणाम स्वरुप आर्थिक नुकसान तथा गृह-कलह की स्थिति पैदा हो रही है।

ईशान के कमरे में स्थित शयन-कक्ष के ईशान कोने में सोने से महिला वर्ग गंभीर बीमारियों का शिकार होती है, और आग्नेय के कमरे में स्थित शयन-कक्ष पुरुष वर्ग के स्वास्थ्य एवं समृद्धि के लिए घातक होता है तथा अग्नि-तत्व से संबंधित बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।

किराए के मकान में फेरबदल करवाने के लिए स्वयं के रूपये खर्च करने से बेहतर यही होगा कि यही किराया, वास्तु के अनुसार बने हुए मकान में रह कर दिया जाए।

वास्तु के अनुसार बने हुए मकान में स्थानांतरित होना ही, आपकी समस्याओं से समाधान प्राप्त करने के लिये एकमात्र बेहतर विकल्प और समझदारी है।

मकान बदलने तक आपकी समस्याओं से राहत प्राप्त करने के लिये, पश्चिम के कमरे में स्थित रसोई-घर को आग्नेय के कमरे में स्थानांतरित करें तथा वायव्य में स्थित मेहमान कक्ष को शयन कक्ष बनाएं। प्रत्येक कमरे के पूर्व-उत्तर में खाली जगह तथा दक्षिण-पश्चिम में वजनदार सामान रखें।

आपके वर्तमान समस्याग्रस्त जीवन तथा भविष्य में समृद्धिदायक जीवन के बीच की दूरी को कम करना, सिर्फ वास्तु के अनुसार बने हुए मकान में स्थानांतरित होना ही है, और यह सब आपके शीघ्र निर्णय लेने पर निर्भर करता है।

0 comments: