शीघ्र स्खलन कारण व निवारण



यदि आप के पति सहवास के समय जल्दी स्खलित हो जाते है तो चिंता की कोई बात नहीं है, आप इसके कारण को समझ के इसका निदान स्वयं या फिर डॉक्टर की सलाह से कर सकते है । निचे कुछ कारण व् निवारण दिए गए है जो आपके पति के लिए कारगर हो सकते है :-

आपके भीतर सहवास करने की इच्छा बरकरार है, प्राइवेट पार्ट में तनाव ठीक से आता है, फिर भी प्रवेश के फौरन बाद स्खलन हो जाता है तो इस समस्या को शीघ्र स्खलन कहते हैं।

शीघ्र स्खलन के खास तौर पर 4 कारण हैं:-
1. पुरुष में सहवास के दौरान जोश जरूरत से ज्यादा आना
2. इंद्रिय के अगले हिस्से पर जरूरत से ज्यादा संवेदना होना
3. प्रोस्टेट में इंफेक्शन हो जाना
4. डायबिटीज की शुरुआत

कारण एक या उससे ज्यादा भले हों, उसका इलाज आसानी से पाया जा सकता है। अगर उत्तेजना ज्यादा हो जाती हो तो डपॉक्सिटीन ( Dapoxitene ) 60 मिली ग्राम की गोली सहवास के एक घंटे पहले एक गिलास पानी के साथ लें। इसका असर करीबन 4 घंटे तक रहता है। देखा गया है कि यह गोली 10 में से 6 लोगों में शीघ्र स्खलन को विलंबित कर देता है।

अगर अगले हिस्से में सेंसेशन ज्यादा हो तो उसे कम करने के मलहम ( xylocaine 5 % ) मार्केट में मौजूद हैं। सहवास के 10 मिनट पहले अगले हिस्से में इसे लगाने से सेंसेशन कम हो जाती है। लेकिन मलहम लगाने के बाद प्रवेश के पहले अगले हिस्से को पानी से अच्छी तरह धो लेना चाहिए।

प्रोस्टेट में इंफेक्शन बहुत कम मौकों पर देखा गया है। अगर पेशाब में जलन हो या डिस्चार्ज के समय दर्द का अहसास हो तो प्रोस्टेट में इंफेक्शन हुआ समझना चाहिए। इसका इलाज एंटीबॉयोटिक्स से मुमकिन है।

डायबिटीज को कंट्रोल करना जरूरी है। गौर करने वाली बात यह है कि कारण 3 और 4 का इलाज होने पर भी कुछ मामलों में शीघ्र स्खलन में फर्क नहीं पड़ता। ऐसे मामलों में भी अगर डपॉक्सीटीन ली जाए तो उसमें काफी राहत मिल सकती है।

अगर किसी को शीघ्र स्खलन की समस्या को जड़ से दूर करना हो तो योगाभ्यास (वज्रौली और अश्विनी मुद्रा) कारगर साबित हो सकता है। कुछ यूनानी डॉक्टरों का कहना है कि पुरूष अगर रुक-रुक कर पेशाब करने की आदत डाल दे तो शीघ्र स्खलन में विलंब आ सकता है। उनका यह मानना है कि दिमाग यह नहीं समझता कि आप पेशाब निकाल रहे हैं या वीर्य। इसलिए पेशाब में कंट्रोल आने के साथ-साथ वीर्य में भी रुकावट आ जाता है।

शराब सेक्स के लिए जहर के समान होता है। कुछ लोग अगर थोड़ी मात्रा में ( 30 मिली लीटर) शराब लेते हैं तो उनकी फिक्र, चिंता या एंग्जाइटी कम हो जाती है और वे ज्यादा आत्म-विश्वास से लंबे वक्त तक सहवास कर सकते हैं। सिगरेट और तंबाकू में निकोटीन पाया जाता है, जिससे एंग्जाइटी के चिह्न और जोर पकड़ते हैं और शीघ्र स्खलन और बढ़ जाता है।

नोट: दवाइयों और गोलियों का सेवन अपने डॉक्टर से पूछ कर ही करें।

0 comments: