ऑयल वैक्स के बारे में



इन दिनों गर्ल्स के बीच ऑयल वैक्स का खूब क्रेज है। यह हेयर रिमूव करने के साथ ही स्किन में शाइन भी लाती है। वहीं, यह नॉर्मल वैक्स से ज्यादा असरदार है। जानते हैं ऑयल वैक्स के बारे में :

गर्मियों में कैप्रीज, स्कर्ट्स और शॉर्ट्स जैसी ड्रेसेज तभी अच्छी लगती है, जब आपकी स्किन साफ और चमकदार हो। यही वजह है कि इन दिनों गर्ल्स अपनी स्किन की शाइनिंग के लिए ऑयल वैक्स खूब ट्राई कर रही हैं। वैसे भी, यह लेटेस्ट ट्रेंड है। इस नई तकनीक से हेयर रिमूव होने के साथ ही स्किन पर शाइन भी आती है। ब्यूटी एक्सपर्ट्स की मानें, तो एक्ट्रेसेज और मॉडल्स के बीच भी ऑयल वैक्स बहुत पॉपुलर है। आप इसे किसी भी अच्छे ब्यूटी सैलून में करवा सकती हैं। इसके अलावा, गर्ल्स के बीच बिकनी वैक्स, ब्रजालियन वैक्स और अमेरिकन वैक्स भी ट्रेंड में है।

नेचरल शाइनिंग
अगर आपने पार्टी में किसी महिला की स्किन में खास चमक देखी हो और उसे नेचरल समझ रही हैं, तो एक मिनट रुक जाइये। आपको बता दें कि यह चमक ऑयली वैक्स करवाने से आती है। गौरतलब है कि यह नॉर्मल वैक्स से कहीं ज्यादा असरदार है। इसका सबसे बड़ा फायदा यही है कि इससे स्किन में चमक लंबे टाइम तक बनी रहती हैं, जो देखने में नेचरल लगती है।

ऑयल का इस्तेमाल
ऑयल वैक्स में ऑयल का इस्तेमाल किया जाता है। नॉर्मल वैक्स में शुगर होती है और ज्यादा गर्म लगाने पर उससे स्किन जलने का चांस होता है। वहीं, ऑयल वैक्स को ज्यादा गर्म यूज करने के बावजूद स्किन पर कोई नेगेटिव असर नहीं पड़ता है। वॉटर बेस्ड नॉर्मल वैक्सिंग के दौरान स्किन पर पाउडर लगाकर गर्म वैक्स अप्लाई की जाती है, जबकि ऑयल वैक्स में सबसे पहले स्किन पर लेवेंडर, ऑलिव ऑयल या जैसमीन तेल लगाया जाता है। बालों को रिमूव करते समय छोटी-छोटी स्ट्रिप्स यूज की जाती हैं। ब्यूटी एक्सपर्ट मंजू रावत कहती हैं, 'ऑयल वैक्स बहुत गर्म भी हो जाए, तो भी स्किन को कोई नुकसान नहीं होता है। हां, इसे करते समय बेहद सावधानी की जरूरत होती है। गलत तरीके अजमाने से स्ट्रिप्स के साथ स्किन भी निकल आती है।'

डेड लेयर करें रिमूव
ऑयल वैक्सिंग से शाइनिंग इसलिए आती हैं। दरअसल , यह बालों को जड़ से रिमूव करती है और इसे करते समय डेड लेयर निकल जाती है। इसमें दर्द भी कम होता है। बाल कितने भी हार्ड हों , आसानी से निकल आते हैं। अगर बात कीमत की करें , तो नॉर्मल वैक्स और ऑयल वैक्स में 200 से 300 रुपये तक का अंतर है। ब्यूटी एक्सपर्ट सरिता श्रीवास्तव कहती है , ' इससे मिलने वाली शाइनिंग की वजह डेड लेयर का निकलना है , जो नॉर्मल वैक्स में पॉसिबल नहीं है। '

बिकनी वैक्स
बिकनी वैक्स में बॉडी के हर पार्ट को चॉकलेट वैक्स से साफ किया जाता है और एक बार लगाने पर ही सारे बाल निकल जाते हैं। वहीं , रेग्युलर वैक्स में कम दर्द होता है और इसका असर एक महीने तक रहता है। नॉर्मल वैक्स से यह थोड़ा महंगी है। बिकनी वैक्स में आपको 700 रुपये से लेकर करीब 2200 रुपये तक खर्च करने पड़ सकते हैं।

ब्रजालियन वैक्स
ब्रजालियन वैक्स फेस और लिप्स पर होती है। यह 100 व 200 ग्राम के पैक में आती हैं। इसमें छोटी स्ट्रिप्स से बालों को रिमूव किया जाता है।

अमेरिकन वैक्स
अमेकिरन वैक्सिंग मऊपर दी गई वैक्सिंग का और ज्यादा विकसित रूप है। इसमें तीन इंच मोटी स्ट्रिप का इस्तेमाल किया जाता है।

बॉक्स
एक नजर इन पर
  • एक्सपर्ट की गाइडेंस में ही इसे करवाएं।
  • इसे करवाने में समय ज्यादा खर्च होता है।
  • जल्दबाजी में करवाने से स्किन भी निकल सकती है।

बॉक्स
ऑयली स्किन
वैसे , तो ऑयल वैक्स सभी तरह की स्किन के लिए सूटेबल है , लेकिन ऑयली स्किन पर यह सबसे ज्यादा असरदार है। जिन लोगों को पसीना आता है , यह वैक्स उनके लिए भी फायदेमंद है ।

0 comments: