डेटिंग के कॉन्सेप्ट

आजकल का यूथ काफी समझदार हो गया है। यंगस्टर्स का मानना है कि शादी से पहले कम से कम चार-पांच लोगों के साथ डेटिंग एक्सपीरियंस जरूर लेना चाहिए, ताकि आपको सही लाइफ पार्टनर चुनने में कोई प्रॉब्लम ना आए। 

शुरुआत में डेटिंग के कॉन्सेप्ट को लेकर जो कंफ्यूजन पहले के यंगस्टर्स में थी, उससे आज की जेनरेशन निजात पा चुकी है। बल्कि वह इसके जरिए सही पार्टनर की तलाश करती है। 'मैंने दसवीं क्लास में अपनी नॉलेज बढ़ानी शुरू कर दी थी। उस दौरान सभी लोगों को ऐसा करते देखकर मैंने भी ऐसा ही किया। डेटिंग और रिलेशनशिप में करीब 10 साल का लंबा टाइम बिताने के बाद अब मेरे पास इतना एक्सपीरियंस हो गया है कि मैं शादी कर सकता हूं।' 

यह किसी एक यंगस्टर का कहना नहीं है, बल्कि युवाओं की सोच ही अब ऐसी हो गई है। उनका मानना है कि शादी के बंधन में बंधने से पहले डेटिंग का एक्सपीरियंस लेना बेहद जरूरी है। यही वजह है कि अब ज्यादातर यंगस्टर्स डेटिंग का खासा एक्सपीरियंस लेकर ही शादी के बंधन में बंध रहे हैं। 

डेटिंग डायरी 
यूथ का मानना है कि अलग-अलग उम्र में अलग-अलग लोगों के साथ डेट पर जाकर उन्हें जो एक्सपीरियंस मिलते हैं, उनकी बदौलत उन्हें अपना पार्टनर चुनने में काफी मदद मिलती है। अभी तक कई लड़कों के साथ डेट कर चुकीं रक्षा शर्मा बताती हैं, 'स्कूल व कॉलेज और कॉलेज के बाद की डेटिंग बिल्कुल अलग होती है। आपका शुरुआती पार्टनर काफी सीधा होता है। मसलन, वह आपका हाथ पकड़ने में भी हिचकेगा। मुझे लगता है कि कॉलेज के दौरान भी हम सही तरीके से डेटिंग नहीं कर पाते। लेकिन कॉलेज से निकलने तक हम काफी मैच्योर हो जाते हैं। तब आपको समझ में आने लगता है कि आपका डेटिंग कितना झूठ बोल रहा है और उस पर कितना विश्वास किया जा सकता है। बेशक इतना एक्सपीरियंस लेने के बाद आपको अपना लाइफ पार्टनर चुनने में आसानी होती है। ' 

प्रैक्टिस जरूरी है 
तो क्या कई सालों के डेटिंग एक्सपीरियंस से लाइफ पार्टनर चुनने में मदद मिलती है? 20 साल की निवेदिता ओबेरॉय इस बात से काफी हद तक सहमत हैं। उन्हें भले ही अभी तक अपना 'मिस्टर राइट' नहीं मिला है, लेकिन इस तरह उन्हें अच्छे-बुरे का एक्सपीरियंस तो हो ही गया है। वह बताती हैं, 'मैंने नाइंथ क्लास से ही डेटिंग शुरू कर दी थी और अब तक मैं तीन लड़कों के साथ डट पर जा चुकी हूं। हालांकि मुझे उनमें से कोई अपना 'मिस्टर राइट' नहीं लला, लेकिन अब मैं इतना जरूर जानती हूं कि मुझे किस तरह के लड़के के साथ शादी नहीं करनी है।' वहीं, सीए ऐश्वर्या विज कहती हैं, 'आजकल यंगस्टर्स को कंप्यूटर और टीवी से रिलेशनशिप के बारे में काफी जानकारी मिल जाती है। इसलिए जब बात शादी की आती है, तो अपने पार्टनर की टर्म्स को लेकर वे पहले ही क्लीयर होते हैं। इसके लिए डेटिंग एक्सपीरियंस की जरूरत नहीं है।' 

शादी अभी नहीं ? 
ऐसा नहीं है कि यंगस्टर्स सिर्फ डेटिंग एक्सपीरियंस की कमी की वजह से ही शादी करने में हिचकिचा रहे हैं , बल्कि आजकल उनके लिए करियर औरइंडिपेंडेंट लाइफ स्टाइल एक बड़ी प्रायरिटी हैं। कॉम्पिटीशन के इस दौर मेंजाहिर है कि मैरिज यूथ की फर्स्ट प्रायरिटी नहीं रही। पीजी में रहने वाली24 साल की इंजीनियर वंदना कहती हैं , ' मैं शादी क्यों करूं , जबकि मेरेपास लिव इन का ऑप्शन मौजूद है ? सिर्फ सेक्स के लिए शादी करने काकोई मतलब नहीं है। वैसे भी , आजकल प्री मैरिटल सेक्स और लिव इनकाफी कॉमन हो गए हैं। इसके अलावा , अभी मुझे अपनी फ्रीडम खोने कीकोई जल्दी नहीं है। जाहिर है कि शादी के बाद आप एक बंधन में बंध जातेहैं। ' 

फर्स्ट लव 
हाल ही में अपने पहले क्रश हर्ष से शादी करने वाली अनिषा सब्बरवालबताती हैं , ' मैंने पहली बार दसवीं क्लास में डेटिंग शुरू की थी। मुझे हर्ष कासाथ बहुत अच्छा लगा था , लेकिन मेरे यूएस शिफ्ट होने की वजह से हम एक - दूसरे से दूर हो गए। उसके बाद , मैंने कई लोगों के साथ डेट पर गई ,लेकिन मुझे यही लगता था कि मैं अभी भी हर्ष से ही शादी करना चाहती हूं। उसकी हां के बाद हम लोगों के शादी का फैसला कर लिया। ' बेशक , इसमें कोई दो राय नहीं है कि वक्त के साथ इंसान की पसंद बदलती है , लेकिन यहभी सच है कि कई बार वाइन की तरह रिलेशनशिप भी वक्त के साथ बेहतरहो जाती है। 

इतना एक्सपीरियंस ! 
वैसे , आजकल के युवा कुछ ज्यादा एक्सपीरियंस लेने लगे हैं। हालत यह होगई है कि कॉलेज में एंट्री करते वक्त यानी करीबन 17 साल की उम्र में उनकेपास चार से पांच लोगों के साथ डेटिंग एक्सपीरियंस होता है। हाल ही मेंकॉलेज में एंट्री लेने वाले आकाश वाधवा कहते हैं , ' स्कूल में मैंने तीन लड़कियों के साथ डेटिंग की। हालांकि इससे मेरे दिमाग और पॉकेट को काफीझटका लगा। इसलिए अब मैंने थोड़ा ब्रेक ले लिया है। बावजूद इसके , मुझेयही लगता है कि कम उम्र में डेटिंग एक्सपीरियंस फायदेमंद रहते हैं। ' 

एक्स से पंगा 
वैसे , कम उम्र में इतनी सारे पार्टनर्स के साथ डेटिंग करने की वजह से पंगे भीकम नहीं होते। दरअसल , इस तरह यंगस्टर्स के कई सारे एक्स पार्टनर होजाते हैं और जब कभी वे एक - दूसरे से टकराते हैं , तो उनके बीच लड़ाई भीहो जाती है। स्टूडेंट समक्ष बताते हैं , ' मेरी गर्लफ्रेंड ने मेरे बर्थडे वाले दिनकिसी और लड़के के लिए मुझे धोखा दिया। हालांकि वह कुछ दिनों बाद लौटभी आई। फिलहाल मैंने उसे अपनी जिंदगी में लौटने की इजाजत दे दी है ,लेकिन मैं भी इंतजार में हूं कि किसी खास मौके पर धोखा देकर उसे सबकसिखा सकंू। ' जाहिर है कि डेट का एक्सपीरियंस लेने के साथ अपने एक्सपार्टनर्स को सबक सिखाने के लिए यंगस्टर्स किसी भी हद तक जाने को तैयारहैं।

0 comments: