प्याज खाने से कम होता है रक्तचाप



प्याज केवल खाने के स्वाद ही नहीं बढ़ाता है, बल्कि शारीरिक प्रक्रियाओं को भी संतुलित रखता है। सब्जियों में प्याज एक ऐसी सब्जी है, जिसका इस्तेमाल प्रायः हर घर में होता है। शोधकर्ताओं के अनुसार यह सिर्फ खाने का स्‍वाद ही नहीं बढ़ाता है, बल्कि वजन कम करने के साथ- साथ डायबीटीज और ब्‍लड प्रेशर जैसी बीमारियों से भी बचाता है। क्‍वीनलैंड यूनीवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इन बीमारियों से बचे रहने के लिए ज्‍यादा से ज्‍यादा प्‍याज का सेवन करने की सलाह दी है। उन्होंने शोध में पाया कि  प्याज से निकलने वाला रस रक्तचाप तो कम करता ही है, साथ में लिवर में होने वाली क्षति की मरम्मत करता है।

प्याज है गुणकारी-
  • प्याज में केलिसिन और रायबोफ्लेविन(विटामिन बी) पर्याप्त मात्रा में होता है। इसकी गंध एन-प्रोपाइल-डाय सल्फाइड के कारण आती है।यह पदार्थ पानी में घुलनशील अमीनों अम्लों पर एन्जाइम की क्रिया के कारण बनता है। यह आंख के लिए एर बेहतरीन औषधि भी है और आंख साफ करता है।
  • अगर गर्मियों में लू लग गई हो, तो प्याज का रस दो-चार चम्मच पिएं। इसके रस को कनपटी व छाती पर मलें। प्याज का रस सर पर लगाने से गंजापन दूर हो जाता है।
  • प्याज  को पानी में उबालकर पीने से पेशाब संबंधी परेशानियां दूर हो जाती हैं।
  • सरसों के तेल में प्याज का रस मिलाकर मालिश करने से गठिया के दर्द से आराम मिलता है।
  • सिर में दर्द हो, तो प्याज पीसकर पैरों के नीचे तलवे में लगाएं। प्याज को काटकर सूंघने से भी सिर का दर्द ठीक होता है।
  • बवासीर में प्याज के 4-5 चम्मच रस में मिश्री और पानी मिलाकर नियमित रूप से कुछ दिन तक सेवन करने से खून आना बंद हो जाता है।
  • घाव में नीम के पत्ते का रस और प्याज का रस समान मात्रा में मिलाकर लगाने से शीघ्र ही घाव भर जाता है।
  • प्याज के रस में दही, तुलसी का रस तथा नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाएं। इससे बालों का गिरना बंद हो जाता है और रूसी की समस्या से भी निजात मिलती है।
  • मासिक धर्म की अनियमितता या दर्द में प्याज के रस के साथ शहद लेने से काफी लाभ मिलता है। इसमें प्याज का रस 3-4 चम्मच तथा शहद की मात्रा एक चम्मच होनी चाहिए। 
  • प्याज के 3-4 चम्मच रस में घी मिलाकर पीने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है।
  • प्याज के रस में चीनी मिलाकर शर्बत बनाएं और पथरी से पीड़ित व्यक्ति को पिलाएं। इसे प्रातः खाली पेट ही पिएं।

0 comments: