आपातकालीन गर्भनिरोधक क्या होता है?

जब कोई महिला बिना गर्भनिरोधक के प्रयोग के असुरक्षित यौन सम्भोग करती है तो उसे गर्भधारण से बचने के लिए आपातकालीन गर्भनिरोधक का प्रयोग किया जाता है।

किन परिस्थितियों में हमें आपातकालीन गर्भनिरोधक की जरूरत पड़ती है?
जिस महिला ने असुरक्षित सम्भोग किया है और गर्भधारण नहीं करना चाहती वे निम्न परिस्थियों में आपातकालीन गर्भनिरोधक ले सकती हैं। 

  • उन्हें सम्भोग की सम्भावना नहीं थी और किसी प्रकार के गर्भनिरोधक नहीं कर रहीं थी। 
  • उसकी अनुमति के बिना जबरदस्ती सम्भोग किया गया। 
  • कंडोम फट गया या स्लिप हो गया 
  • गर्भनिरोधक समाप्त हो गए थे या लगातार दो तीन पिल्स लेना भूल गई थी।

आपातकालीन गर्भनिरोधक कैसे काम करते हैं?

  • आपातकालीन गर्भनिरोधक आपको गर्भधारण से बचा सकते हैं
  • अण्डे का अण्डकोश से बाहर नहीं आने देकर 
  • वीर्य को अण्डे से न मिलने देकर 
  • उर्वरित अण्डे को कोख से न जुड़ने देकर।

यौनपरक सम्भोग के कितनी देर बाद तक आपातकालीन गर्भनिरोधक पिल्स लिए जा सकते हैं?
असुरक्षित यौनपरक सम्भोग के पहले 72 घन्टे में आपातकालीन गर्भनिरोधक उपाय किए जा सकते हैं फिर भी यही परामर्श है कि जल्दी से जल्दी ले लें।

आपातकालीन गर्भनिरोधक कितने प्रकार के होते हैं?
दो प्रकार के हैं 

  • (1) आपातकालीन गर्भनिरोधक पिल्स (ईसीपीस) 
  • (2) आई यू डीस

आपातकालीन पिल क्या होता है और इसका उपयोग कैसे होता है?
इस पील में लीवोनर्जेस्ट्रल नामक पदार्थ होता है जो कि आपातकालीन गर्भनिरोध के लिए काम में लाया जाता है। दो पिल दो बार में लेने होते हैं (एक परन्तु और दूसरा अगले 12 घन्टे के बाद) या दोनों पिल एक साथ भी लिये जा सकते हैं।

एक आईयूडी आपातकालीन गर्भनिरोधक के रूप में कैसे काम करता है?
यह आईयूडी 'टी' के आकार का प्लास्टिक से बना यन्त्र होता है जिसे कि सम्भोग के पांच दिनों के अन्दर अन्दर डाक्टर कोख में लगाता है। आई यू डी का काम होता है 

  • वीर्य को अण्डे से मिलने देकर
  • अण्डे को गर्भाशय से न मिलने देने से। आपके अगले पीरिययड के बाद डाक्टर आई यू डी को बाहर निकाल सकता है अथवा दस साल तक जनन नियंत्रण के लिए लगे भी रहने दिया जा सकता है।

आपातकालीन गर्भनिरोधक पिल के क्या कोई सह प्रभाव भी होते हैं?
आपातकालीन गर्भनिरोधक लेने पर पड़ने वाले अत्यन्त सामान्य सहप्रभाव निम्नलिखित हैं।

  1. मित्तली और उल्टी
  2. अनियमित योनिपरक रक्त स्राव
  3. थकावट
  4. सिर दर्द
  5. सिर घूमना
  6. स्तनों का ढीलापन।

पिल लेते समय मित्तली से कैसे निपटना चाहिए?
मित्तली कम करने के लिए

  • पिल लेने से पहले कुछ खा लेने की कोशिश करें।
  • दूसरी बार पिल्स लेने से उनके प्रभाव को कम करने के लिए मित्तली न होने देने वाली दवा लीजिए।
  • पिल्स को दूध या पानी के साथ लें।

क्या आपातकालीन गर्भनिरोधक हमेशा होते हैं?
हां, ये पर्याप्त प्रभावशाली हैं। यदि 100 महिलाएं आपातकालीन गर्भनिरोधक का उपयोग करें तो केवल एक गर्भवती होती है।

आपातकालीन गर्भनिरोधक लेते समय कौन से संकेत खतरे के माने जाते हैं जिनसे व्यक्ति को सावधान रहना चाहिए?
आपातकालीन गर्भनिरोधक लेने वाली कोई महिला यदि निम्नलिखित लक्षणों को महसूस करे तो उसे तुरन्त डाक्टर के पास जाना चाहिए।

  • पेट में तेज दर्द
  • आगे आने वाले पीरियड में सामान्य रूप से कम रक्त स्राव
  • यदि अगली माहवारी न हो।

0 comments: