तनाव भरी जिंदगी में ऐसे रहें फिट

भागदौड़ से भरी जिंदगी में खुद को फिट रखना किसी चुनौती से कम नहीं। प्रफेशनल लाइफ का अंदाज कुछ इस तरह बदल रहा है कि काम का कोई तय वक्त नहीं है। कोई नाइट शिफ्ट करता है, तो किसी के लिए देर रात तक घर लौटना आम बात है। ऑफिस का स्ट्रेस, कॉम्पिटीशन और रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े सवाल, ऐसे में खुद को फिट रखने की जरूरत बेहद बढ़ गई है। हालांकि यह ज्यादा मुश्किल नहीं है। 

इसके लिए बस अगर आप रोज केवल 30 मिनट निकाल लें, तो आपकी दिक्कतें आसान हो जाएंगी। हालांकि सेहतमंद बने रहने के लिए इन दिनों कई तरीके मौजूद हैं, जिनमें जिम, एरोबिक्स, योग वगैरह काफी पॉपुलर हैं। वेस्ट पंजाबी बाग, 41 नॉर्थ ऐवन्यू क्लब रोड पर स्थित स्काईज जिम के ऋषिकेश ओझा कहते हैं, 'आज लोग बॉडी की जरूरत व इंटरेस्ट के मुताबिक फिटनेस के तरीके अपनाते हैं। 

यही वजह है कि अब जिम के साथ स्पा, योग, डांस और एरोबिक्स वगैरह की काफी डिमांड है। स्पा में कई चीजें करना लोग पसंद करते हैं, लेकिन इन दिनों चिल्ड शॉवर और स्टीम लोगों के पसंदीदा सेशन बने हुए हैं। एरोबिक्स में अगर स्टेप का ध्यान रखकर चला जाए, तो यह कैलरीज घटाने के साथ बॉडी को एनर्जेटिक रखने में खासी मदद करती है।' 

इसके अलावा, योग की तरफ भी हर उम्र के लोगों का रुझान खूब बढ़ा है, उसमें पंचकर्मा (कई योगों का मिश्रण) को ज्यादा पसंद किया जा रहा है। जो लोग एक्सरसाइज को फन की तरह लेते हैं, उनके लिए बॉलिवुड गानों पर डांस करना अच्छा ऑप्शन है। हालांकि इसमें भी ट्रेनर की जरूरत होती है। 

एक सर्वे रिपोर्ट बताती है कि फिट रहने के लिए जिम हर एज ग्रुप के लिए पॉपुलर है। जिम में कई तरह के फिटनेस इक्विपमेंट्स होते हैं और इनसे हर बॉडी पार्ट पर वर्कआउट किया जा सकता है। इलैक्ट्रिकल ट्रेडमिल में आप अपने स्टेमिना के हिसाब से स्पीड तय कर सकते हैं। साथ ही, इनमें इस तरह के कंट्रोल पैनल भी मिलने लगे हैं, जो आपको बर्न आउट कैलरी कांउट भी बताते रहते हैं। 

ऐसे भी ट्रेडमिल मॉडल भी हैं, जिनका स्लोप आप बढ़ा-घटा सकते हैं। इस परें रोजाना 10 से 20 मिनट की वॉकिंग आपके लिए फायदेमंद रहेगी। साइकलिंग में भी मैनुअल व इलेक्ट्रिक दोनों ऑप्शंस हैं। इसके अलावा, स्टैंडिंग साइकलिंग, एबी रोलर्स, स्ट्रेचिंग मशीन जैसी चीजें भी आपके लिए फायदेमंद रहेंगी। 

एरोबिक्स 
इन दिनों वजन घटाने के लिए एरोबिक्स खासी पॉपुलर है। इस तकनीक सेतुरंत कुछ ही दिनों में वजन घटाया जा सकता है। यह संगीत पर किया जानेवाला व्यायाम है , जिसे लगातार करने से एक्स्ट्रा फैट कम होता जाता है।दरअसल , यह बहुत स्पीड में किया जाता है , इसलिए इसमें कैलरीज भीबाकी एक्सरसाइज से ज्यादा बर्न होती हैं। एक मिनट में बॉडी के तमामपार्ट्स मूव करने से इसमें से इसमें ज्यादा फायदा होता है। 

अगर आप पहली बार इसे करने जा रहे हैं , तो सबसे पहले अपनीमांसपेशियों को कुछ दिन हल्की - फुल्की एक्सरसाइज करके एरोबिक्स केयोग्य बना लें। कई लोग घर में ही इसे करना प्रिफर करते हैं , इसलिएएरोबिक्स का कसेट चुनते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह आपकीक्षमता के अनुसार हो। अगर शुरुआत कर रहे हैं , तो फॉर द बिगिनर्स कहकरही कसेट खरीदें। 

लेकिन जब भी शुरू करें , डॉक्टर की सलाह जरूर लें। इसके अलावा ,स्लिमिंग सेंटर जाने वाले लोगों की तादाद भी खूब बढ़ी है। पंजाबी बाग के 'चेंज ' स्लिमिंग सेंटर की निरुपमा कहती हैं , ' यहां खाने से लेकर कैलरीजइंटेक और बर्न होने का पूरा चार्ट बनाया जाता है और फिर बॉडी की जरूरतके मुताबिक वेट लॉस प्रोग्राम तय किया जाता है। इससे कम समय में हीकाफी फायदा दिखने लगता है। वैसे , इसमें बॉडी के पार्ट की जरूरत केमुताबिक भी प्रोग्राम तय किए जाते हैं। ' 

योग 
दिन में अगर 20 मिनट योग के लिए निकाल लिए जाएं , तो हेल्दी रहनामुश्किल नहीं है। राजौरी गार्डन की नेहरू मार्केट स्थित इंटरनैशनलइंस्टिट्यूट ऑफ ऑल्टरनेट साइंस के जगमोहन सचदेवा कहते हैं , ' पिछलेपांच सालों में लोगों में योग के लिए रुझान जबर्दस्त तरीके से बढ़ा है।खासतौर पर पावर योगा हर उम्र के बीच खूब पसंद किया जा रहा है। लोगइसे बॉडी शेप , बॉडी स्ट्रेंथ और वेट लॉस के लिए कर रहे हैं। वैसे , योग केजरिए कई बीमारियों पर भी काबू पाया जा सकता है। ' 

दरअसल , योग की कुछ आसान क्रियाओं से न केवल दिनभर के लिए ताजगीमिलती है , बल्कि इसे नियमित रूप से करने पर शरीर भी स्वस्थ रहता है।बहुत से लोग यह समझते हैं कि कसरत और योगासन में कोई अंतर नहीं है ,जबकि ऐसा नहीं है। कसरत करने पर शरीर को थकान महसूस होती है ,जबकि योगासन से थकान नहीं होती ।

1 comment: