जल्दी परेशान हो जाती हूं

मेरी उम्र 25 साल है और उम्र के हिसाब से मैं बहुत सेंसिटिव हूं। थोड़ा-सा भी बुरा व्यवहार मुझे बहुत परेशान कर देता है। तब मैं बहुत ज्यादा नेगेटिव सोचती हूं। घर पर रहने तक तो सब ठीक था, लेकिन इस वजह से मुझे प्रफेशनल लाइफ में दिक्कत हो रही है। इन बातों को मैं घर पर भी डिस्कस नहीं कर पा रही हूं। प्लीज, मुझे बताएं कि मैं अपने इमोशंस कैसे कंट्रोल में करूं? 
विम्मी 

अभी तक आप अपने पैरंट्स के सुरक्षा घेरे में थीं और आपके सामने कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है और यही आपकी चिंता की वजह है। दरअसल, आपने अभी तक खुद के भरोसे जीना नहीं सीखा और न ही आपको अपने फैसले लेना आया। इस बात को समझें कि अब आप बड़ी हो चुकी हैं और अपनी इस राह पर आप हमेशा पैरंट्स या किसी और की उंगली पकड़कर नहीं चल सकतीं। एक बार आप यह सीख जाएंगी, तो दूसरों की बातें आपको ज्यादा परेशान नहीं करेंगी। हालांकि शुरुआत में आपको कुछ दिक्कत आएगी, लेकिन कड़ी मेहनत और निश्चय से आप अपनी यह लड़ाई जरूर जीत लेंगी। 

मैंने देखा है कि मेरी पांच साल की बेटी अजनबी लोगों के साथ असहज रहती है। बड़ी उम्र के लोगों की बात छोड़िए, वह हमउम्र बच्चों से भी पूरी तरह घुलमिल नहीं पाती है। इस वजह से वह स्कूल में भी अकेली पड़ जाती है। हालांकि वह पढ़ाई में कमजोर नहीं है और उसके रिजल्ट्स बहुत अच्छे आ रहे हैं। 
सुमन 

आपको यह पता लगाना पड़ेगा कि अजनबियों के प्रति उसके मन में डर कब और कैसे बैठा। इसे जल्द से जल्द दूर करना पड़ेगा। वरना उसका यह व्यवहार उसकी पर्सनैलिटी ग्रोथ को कम कर सकता है। इस सिचुएशन को आप हल्के तौर पर न लें। आप चाहें, तो प्रफेशनल हेल्प भी ले सकती हैं। बच्चे पर जबर्दस्ती न करें और उसे प्यार व विश्वास के साथ लोगों से बात करने के लिए प्रोत्साहित करें। उसे छोटी-छोटी बातों के लिए टोके नहीं। इस तरह उसमें हीन भावना भर सकती है। साथ ही, आप उसे विश्वास दिलाएं कि सभी उसे पसंद करते हैं और उसे सभी से खुलकर बात करनी चाहिए। इस बात का भी ध्यान रखें कि आप उसके लिए ओवरप्रोटेक्टिव न हों और न ही उसके प्रति लापरवाह रहें। यानी उसे बढ़ने के लिए अच्छा माहौल दें और अपने पति से भी इस बात का ध्यान रखने के लिए कहें। 

डॉ. संजय चुग से पूछने के लिए अपने सवाल आप इस पते पर भेज सकते हैं, 
डायरेक्ट दिल से, 
हैलो डेल्ही, 
नवभारत टाइम्स, 
सेकंड फ्लोर, 9-10 बहादुर शाह जफर मार्ग, 
नई दिल्ली-02.

0 comments: