बालों की खूबसूरती का राज : हेयर स्पा

बारिश के मौसम में बालों का टेक्सचर और शाइन बनाए रखने में हेयर स्पा बेहद काम आता है। इसमें ऑयल, मसाज, शैंपू, हेयर मास्क और कंडिशनर का इस्तेमाल कर बालों की फ्रिजीनेस को कम किया जाता है, जिससे इनको मन मुताबिक स्टाइल देना आसान हो जाता है : 

बारिश की रिमझिम फुहारें जहां मन खुश कर देती हैं, वहीं नमी बालों के लिए कई परेशानियों का कारण बन जाती है। इस मौसम में ऑयली बाल जहां और चिपचिपे हो जाते हैं, वहीं ड्राई बाल रूखे व बेजान होकर टूटने लगते हैं। ऐसे में हेयर स्पा कराना बेहद फायदेमंद होता है। 

क्या है हेयर स्पा 
हेयर स्पा 45 मिनट से एक घंटे का प्रोसेस है। यह बालों के कई ट्रीटमेंट्स में उपयोगी है। इसमें मसाज, क्रीम, मशीन और हेयर मास्क वगैरह का इस्तेमाल किया जाता है। ब्यूटी एक्सपर्ट मंजू रावत कहती हैं, 'हेयर स्पा देने से पहले स्काल्प और हेयर टेक्सचर के बारे में पता लगाया जाता है। कोई भी ट्रीटमेंट शुरू करने से पहले बालों को शैंपू किया जाता है। इन दिनों बालों में पसीना आने से बाल चिपचिपे रहते हैं, जिससे स्काल्प पर दाने, फुंसियां जैसी दिक्कतें हो जाती हैं और बाल गिरने लगते हैं। ऐसे बालों के लिए उनके टेक्सचर के मुताबिक क्रीम चुनकर उससे तकरीबन 45 मिनट मसाज दी जाती है। 

इसके बाद मशीन से बालों, बाहों व पीठ में अल्ट्रावॉयलेट रेज दी जाती हैं। इससे बालों में पसीने की वजह से पैदा होने वाले बैक्टीरिया तो खत्म होते ही हैं, साथ ही बॉडी भी रिलैक्स होती है। इसके बाद क्रो मशीन से बालों को सॉफ्ट कर दिया है और फिर हेयर कंस्ट्रक्शन मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। इसके बाद बालों को दोबारा शैंपू से धोया जाता है। अगर बाल ज्यादा डैमेज्ड नहीं हैं, तो महीने में एक बार ही ट्रीटमेंट लेना काफी है। लेकिन बालों में प्रॉब्लम ज्यादा होने पर इसे दो हफ्तों में एक बार लेना चाहिए।' 

वैसे, हेयर स्पा ट्रीटमेंट का तरीका हर हेयर टेक्सचर के लिए अलग होता है। इसलिए ट्रीटमेंट लेने से पहले बालों का टेक्सचर व स्काल्प टाइप का पता होना बेहद जरूरी है। हेयर एंड शंाति की विश्वश्रेष्ठा शांति कहती हैं, 'हेयर स्पा में हेयर मास्क खास मायने रखता है। इसलिए इसमें इस्तेमाल की जाने वाली क्रीम्स की क्वांटिटी का ध्यान रखना पड़ता है। वैसे, बारिश के मौसम में हेयर मास्क में इस्तेमाल होने वाली क्रीम्स में उन चीजों को बढ़ा दिया जाता है, जो बालों की नमी कम करने में मदद करती हैं। बालों की प्रॉब्लम्स खत्म करने के साथ ही यह उनको स्मूद व चमकदार भी बनाता है।' 

कब लेना है जरूरी 
बालों की नेचरल ब्यूटी खत्म हो रही हो, इनको मेंटेन करने में मुश्किल आ रही हो, बालों का लुक हेल्दी न हो, इनमें बहुत डैंड्रफ हो और बाल बहुत ज्यादा ड्राई या ऑयली हो रहे हों, तो ऐसे में हेयर स्पा बेहद काम आता है। 

हेयर स्पा ट्रीटमेंट 
ड्राई हेयर 
यह एक डीप कंडिशनिंग ट्रीटमेंट है। वैसे तो इसे महीने में दो बार करना ही काफी है, लेकिन बाल बहुत ज्यादा ड्राई हैं तो शुरुआत में इसे हफ्ते में एक बार लें। अगर घर में स्पा ट्राई करना चाहती हैं, तो बालों की लेंथ के मुताबिक ऑलिव ऑयल लें। सबसे पहले बालों को गर्म पानी से धो लें। इसके बाद तेल लगाकर बालों की जड़ों पर उंगलियों की मदद से हल्की मसाज करें। ऐसा तब तक करें, जब तक बाल पूरी तरह तेल से न भीग न जाएं। इसके बाद प्लास्टिक बैग से बालों को लपेटकर 30 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर हेयर मास्क लगाएं। इसके लिए एक पका केला, दो चम्मच मायोनीज और एक चम्मच शहद का पेस्ट बालों पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर गुनगुने पानी से धो लें। कुछ ही दिनों में आपके बालों की ड्राइनेस खत्म हो जाएगी और वे शाइनी, सॉफ्ट और स्मूद हो जाएंगे। 

डैमेज्ड हेयर 
हेयर कलर, पर्मिंग, एक्स्टेंशन, हॉट रोलर्स, कर्लिंग आयरन और दूसरे केमिकल्स ट्रीटमेंट लेने से बालों को खासा नुकसान पहुंचता है। हेयर स्पा के जरिए डिफ्रीजर, हेयर मास्क और ऑयल ट्रीटमेंट देकर कुछ ही सीटिंग में इस प्रॉब्लम को दूर किया जा सकता है। 'चेंज' की नीता भार्गव कहती हैं, 'बारिश के मौसम में हेयर स्पा की सबसे ज्यादा जरूरत पड़ती है। दरअसल, इस मौसम में पसीना बहुत आने से बाल काफी गीले रहते हैं। फिर नमी रहने से अच्छी तरह सूख नहीं पाते। इसकी वजह से खुजली, दाने, चकत्ते जैसी दिक्कतें पैदा हो जाती हैं और बाल डैमेज होने लगते हैं।' 

अगर घर में करना हो स्पा 
अगर घर पर हेयर स्पा करना चाहती हैं, तो शैंपू, टावल, चौड़े दांतों वाली कॉम्ब और हेयर कंडिशनिंग किट लें। सबसे पहले बालों को किसी माइल्ड शैंपू से धोएं और फिर कंडिशनर लगाएं। गीले बालों को बिना रगड़े तौलिए से साफ कर लें। इसके बाद इनमें कंघी करें। अब हेयर मास्क लगाएं। 

हेयर मास्क के लिए एक अंडा, एक चम्मच कैस्टर ऑयल, एक नीबू का रस और एक चम्मच शहद और ग्लिसरीन का लें। इन चीजों को एगबीटर से अच्छी तरह मिक्स कर लें। इस मिक्सचर को तकरीबन एक घंटे के लिए बालों पर लगा लें और प्लास्टिक शॉवर कैप पहन लें। एक घंटे बाद माइल्ड शैंपू से बालों को वॉश कर लें। इसके बाद चार कप पानी में चाय की पत्तियों को उबालकर ठंडा कर लें। इसमें नीबू का रस मिलाकर शैंपू करने के बाद बालों को इससे धोएं। यह हर टेक्सचर के बालों के लिए फायदेमंद है। चाय की पत्तियों के पानी को आप मास्क लगाने के बाद तैयार कर सकती हैं।


2 comments:

  1. अच्छी जानकरी.

    ReplyDelete
  2. KYA DOMUHE BALO SE CHUTKARA PANE KA KOI UPAI HAIN.....????

    ReplyDelete