आपको कोई प्रॉब्लम है ?

हर महिला की चाहत होती है कि शादी के बाद उसकी गोद में बच्चे की किलकारियां गूंजें, लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद कभी-कभार यह सपना पूरा नहीं हो पाता है। हेल्दी व यंग कपल होने के बावजूद अगर आप कंसीव नहीं कर पा रही हैं, तो आपको इसकी वजह जानने की जरूरत है। दरअसल, कई बार आप छोटी- छोटी चीजों की जानकारी नहीं होने की वजह से भी कंसीव नहीं कर पाती हैं और आप यह सोच बैठती हैं कि आपको कोई प्रॉब्लम है। ऐसे में आपको कुछ बेसिक चीजों की नॉलेज लेने की जरूरत है, जो आपके कंसीव न कर पाने की वजह हो सकती हैं। 
रॉन्ग इंटरकोर्स 

  • डॉक्टर्स के मुताबिक अगर कपल सही तरीके से 'पेनो- वैजाइनल' इंटरकोर्स करें, तो कंसीव करने में कोई प्रॉब्लम नहीं होती। लेकिन, ऐसा तभी संभव है, जब आपको इसका सही तरीका मालूम हो। इसके अलावा, सेक्सुअल अट्रैक्शन की कमी, सेक्सुअल एक्साइटमेंट का मिस मैच, प्री मैच्योर इजैक्युलेशन, फोर स्किन में एबनॉर्मल टाइटनेस और कोई इन्फेक्शन भी आपके कंसीव नहीं कर पाने की वजहों में से एक हो सकते हैं। हालांकि, ये सभी दिक्कतें पुरुषों से जुड़ी हैं, लेकिन कुछ परेशानियां महिलाओं को भी होती हैं। मसलन वैजाइना का सिकुड़ना, इंटरकोर्स के दौरान पेन होना और हाइमन का बेहद टाइट हो जाना। अगर आपको इनमें से कोई दिक्कत नहीं है और आपको पेनो- वैजाइनल इंटरकोर्स का तरीका भी पता है, तो आपका अगला स्टेप सीमेन टेस्ट होना चाहिए। इस टेस्ट से स्पर्म की संख्या चेक की जाती है। 
लो फ्रिक्वेंसी 
  • कंसीव करने के लिए स्पर्म का ओवम (एग) से मिलना जरूरी है। दरअसल, हर महीने दो ओवरीज में से किसी एक से ओवम निकलता है, जो 24 से 48 घंटे तक जीवित रहता है। अगर यह ओवम स्पर्म से कनेक्ट हो जाता है, तो आपके कंसीव करने के चांस 95 फीसदी बढ़ जाते हैं। आपको बता दें कि कंसीव करने की गुंजाइश अगले पीरियड के पहले दिन से 14 दिन पहले सबसे ज्यादा और उससे पांच दिन पहले और पांच दिन बाद ज्यादा होती है। अगर स्पर्म की फ्रिक्वेंसी कम हैं, तो कपल के लिए जरूरी है कि वे नेक्सट पीरियड से 14 दिन पहले रिलेशन बनाएं। इस दिन सिर्फ एक बार इंटरकोर्स से महिला प्रेग्नेंट हो जाती हैं। 
आर्टिफिशल लुब्रिकेंट 
  • इन दिनों लोग सेक्स इंजॉय करने के लिए या उसे आसान बनाने के लिए तमामआर्टिफिशल लुब्रिकेंट इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी के चलते कई बड़ी कंपनियों केसाथ लोकल कंपनियों ने भी अपने लुब्रिकेंट्स मार्केट में उतारे हैं। आर्टिफिशललुब्रिकेंट के इस्तेमाल से स्पर्म ओवम तक नहीं पहुंच पाते हैं , जिससे कंसीव करनानामुमकिन है। वैसे , तो लुब्रिकेंट के इस्तेमाल की जगह नेचरल प्रोसेस ही ठीक है ,लेकिन अगर आप लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करना चाहते हैं , तो बेहतर होगा किओरिजिनल प्रॉडक्ट इस्तेमाल करें। 
नॉट ऑव्यूलेशल 
  • कुछ महिलाओं का ऑव्यूलेशन ( एग प्रोसेस ) सही तरीके से नहीं हो पाता है याफिर अनियमित रहता है। इसकी जानकारी नहीं होने की वजह से उन्हें लगता हैकि अब वे कंसीव नहीं कर पाएंगी। लेकिन सोनोग्राफी से से इसका पता लगाया जासकता है। अगर ऑव्यूलेशन का प्रोसेस ठीक नहीं है , तो इस प्रोसेस को ठीक करनेके लिए भी कई ट्रीटमेंट्स है। इसके लिए आपको गायकॉलजिस्ट से संपर्क करनाहोगा। 
यूटरस इनर लाइन डैमेज 
  • यूटरस की इनर लाइन डैमेज होने पर भी कंसीव नहीं होने की प्रॉब्लम आ जातीहै। दरअसल , प्रेग्नेंसी के लिए यूटरस की इनर लाइन का हेल्दी रहना बेहद जरूरीहै। अगर यह हेल्दी नहीं होगी , तो कंसीव करना नामुमकिन है। इसे इन्फेक्शन ,एसटीडी और टीबी जैसी बीमारियों से नुकसान पहुंचता है। टेस्ट द्वारा इसका भीआसानी से पता लगाया जा सकता है। 
ब्लॉक फेलोपियन ट्यूब 
  • ओवरी से ओवम फेलोपियन ट्यूब के जरिए ट्रांसफर होते हैं। अगर यह ट्यूब ब्लॉकहै , तो ओवम को स्पर्म से मिलने में दिक्कत आएगी। वैसे , इस ट्यूब के ब्लॉक होनेकी वजह इन्फेक्शन और टीबी होती है , जिसका ट्रीटमेंट मौजूद है। 
नॉट होल्ड 
  • जब स्पर्म और ओवम मिलते हैं , तो कंसीव होने की गुंजाइश रहती है। लेकिनअगर उस समय आपकी बॉडी स्पर्म को होल्ड नहीं कर पाती है , तो आप कतईकंसीव नहीं कर सकती। इसकी वजह यूटरस का लूज व ढीला होना होती है।ज्यादातर मिस कैरिज भी इसी वजह से होता है। ऐसी दिक्कत होने पर लगातारमिस कैरिज होता रहता है और कंसीव होने के चांस न के बराबर रहते हैं। 
कंबाइंड इनफर्टिलिटी 
  • ज्यादातर मामलों में इनफर्टिलिटी की दिक्कत एक ही पार्टनर को आती है। लेकिनअगर दोनों ही लोगों में कोई दिक्कत है , तो बिना ट्रीटमेंट के कंसीव करनानामुमकिन है। इसलिए अपनी - अपनी दिक्कतें समझकर उनका इलाज करवा लें। 
सही जानकारी न दे पाना 
  • ऐसे भी कई मामले आते हैं , जिनमें कपल्स को ऊपर बताई गईं समस्याएं नहींहोतीं। फिर भी वे कपल्स बच्चा पैदा नहीं कर पाते। तकरीबन 26 फीसदी मामलेऐसे भी हैं , जो अपनी दिक्कत को खुलकर डिस्कस करने से बचते हैं। ऐसी स्थिति मेंडॉक्टर्स भी उनको बच्चा एडॉप्ट करने की ही सलाह देते हैं।


1 comment:

  1. इसका ज्ञान होना तो वाकई जरूरी है
    बांटना और भी अच्छी बात

    ReplyDelete