बेबीमून क्या है ?



एक माँ के लिए गर्भधारण  करना एक विशेष अनुभव होता है, चाहे  माँ अपने पहले बच्चे की उम्मीद से हो या फिर चौथे बच्चे की । एक गर्भवती माँ के लिए उसके शरीर के भीतर पलने वाले जीवन को पोषण देना, कभी भी न भूले जाने वाली अनुभूति होती है और इस अनुभूति को यादगार क्षणों में तब्दील किया जा सकता है "बेबीमून " कि प्लानिंग करके ।

बेबीमून क्या है ?
"बेबीमून" शब्द सबसे पहले नब्बे के दशक में सामने आया। उस वक्त बच्चे के जन्म के बाद मां-बाप जो वक्त एक साथ बिताते थे। उसे बेबीमून कहा जाता था। इसके लिए वे बाकायदा प्लानिंग करते थे और अपनी पसंदीदा जगह पर न्यू-बॉर्न बेबी के साथ कपल्स वक्त बिताते थे।

इसके बाद 2006 के बाद बेबीमून का स्वरूप बदला। अब कपल्स बेबी के होने से पहले जो छुट्टियां साथ बिताने लगे उसे बेबीमून कहा जाने लगा। इस वक्त यह खूब प्रचलन में है। मां-बाप बनने वाले कपल्स बच्चे के जन्म से पहले कुछ दिन साथ बिताते हैं। इन दिनों में वो अपनी पसंदीदा जगह की ट्रैवलिंग करते हैं। बच्चे के लिए प्लानिंग करते हैं। इसके अलावा, आने वाली जिम्मेदारियों के ऊपर बातचीत करते हैं।

सही समय का चुनाव 
बेबीमून के लिए परफेक्ट टाइमिंग 18 से लेकर 24 वें सप्ताह के बीच मानी जाती है। इसके अलावा आप गर्भावस्था के मिड पीरियड में भी बेबीमून पर जा सकते हैं। बेबीमून को लेकर अलग-अलग राय है कई लोग कहते हैं कि 14 से लेकर 28वें सप्ताह के बीच बेबीमून पर जाना उपयुक्त रहता है।

 The Mongan Method: A Natural Approach to a Safe, Easier, More Comfortable Birthing with CD (Audio)

बेबीमून पर जाते वक्त इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जिस एयरलाइन में आप जा रहे हैं कहीं उसमें डिलीवरी के कुछ सप्ताह पहले फ्लाइनिंग प्रतिबंधित न हो। कई ऐसी एयरलाइन हैं जो डिलीवरी के कुछ हफ्ते पहले फ्लाइनिंग नहीं करने देती हैं। बुकिंग से पहले इस बात को चेक कर लें, ताकि आपका टिकट बर्बाद न जाए।

डेस्टिनेशन का चुनाव
बेबीमून पर जाने से पहले डेस्टिनेशन तय कर लें। ध्यान रहे कि डेस्टिनेशन पति-पत्नी दोनों की रजामंदी का होना चाहिए। अगर आप पहले से ही तय डेस्टिनेशन पर बेबीमून मनाने जाएंगे तो खूब मस्ती भी कर पाएंगे और बिना किसी परेशानी और आपसी मनमुटाव के रिलेक्स भी करेंगे।

बेबीमून के लिए ऐसी जगह का चुनाव करें जहां आप दोनों आसानी से जा सकें। वहां जाने में किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े। अगर आप कार से बेबीमून के लिए जा रहे हैं तो ध्यान रखें कि 9-10 घंटे से ज़्यादा का सफर न हो।

सीट बैल्ट हल्के बांधे
बेबीमून के लिए प्लाइंग करते वक्त गर्भवती महिला को अपनी सीट बैल्ट हल्के बांधनी चाहिए। इसके अलावा पेट के नीचे को सीट बैल्ट बांधे। पेट के बीचो-बीच सीट बैल्ट बांधने से बचें।

डॉक्टर से सलाह लें
बेबीमून पर जाते वक्त अपने डॉक्टर से सलाह लें। जहां आप बेबीमून के लिए जा रहे हैं वहां आस-पास डॉक्टर की उचित व्यवस्था हो इस बात का विशेष ध्यान रखें।