कुकिंग ऑयल के बारे में जानते हैं?

तेल को लेकर ना जाने कितने मुहावरे प्रचलित हैं, लेकिन क्या आप वाकई अपने तेल यानी कुकिंग ऑइल के बारे में जानते हैं? क्या आपको पता है कि सोयाबीन तेल तलने के लिए अच्छा नहीं और यह कि नारियल तेल में कोलेस्टरॉल नहीं होता? जानते हैं,  कुकिंग ऑयल से जुड़ी जरूरी बातें : 

हम में से अधिकतर लोग ऑयल की जानकारी होने के नाम पर बस यही बता पाएंगे कि हमें ऑयली फूड और खासकर सैचुरेटेड फैट नहीं लेना चाहिए। खाना पकाने के लिए देश के हर हिस्से में अलग तरह के तेल का प्रयोग होता है। मध्य और पश्चिमी भारत में जहां मुख्य तौर पर मूंगफली का तेल इस्तेमाल होता है, वहीं दक्षिणी भारत में नारियल का तेल और पंजाब-हरियाणा में सूरजमुखी और घी का प्रयोग आम है। वैसे, सेहत के लिहाज से हर तेल की अपनी अलग वैल्यू है। 
सरसों का तेल 
  • उत्तर प्रदेश, बंगाल, बिहार आदि में यह काफी यूज होता है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (एमयूएफए) की मात्रा काफी होती है। थोड़ी मात्रा में पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (पीयूएफए) भी होता है। 
  • सेहत के लिए- अच्छा है। इसका इस्तेमाल टोटल कोलेस्टरॉल और एलडीएल को कम करता है। 
  • तलने के लिए- सही है। 
  • सलाह- यूरोसिक एसिड की मौजूदगी नुकसान कर सकती है। इसके साथ कुछ अन्य तेलों का प्रयोग भी करें। 
सूरजमुखी तेल 
  • पंजाब-हरियाणा, कश्मीर आदि में ज्यादा उपयोग होता है। इसमें पॉलीअनसैचुरेटेड फैट की मात्रा ज्यादा होती है। खासकर लिनोलेइक एसिड की। 
  • सेहत के लिए- अच्छा। एलडीएल और एचडीएल दोनों की मात्रा घटा देता है। 
  • तलने के लिए- अच्छा नहीं, क्योंकि पॉलीअनसैचुरेटेड फैट गर्म होकर टॉक्सिंस में बदल जाते हैं। 
  • सलाह- इसके साथ कभी-कभी पाम या पामोलिन ऑइल इस्तेमाल करना सही रहेगा। 
सोयाबीन तेल 
  • मध्य भारत में इस्तेमाल किए जाने वाले इस तेल में पॉलीअनसैचुरेटेड फैट होता है खासकर एल्फा लिनोलेइक एसिड। 
  • सेहत के लिए- अच्छा है। यह गुड और बैड कोलेस्टरॉल के बीच संतुलन बनाए रखता है। 
  • तलने के लिए- सही नहीं। पॉलीअनसैचुरेटेड फैट्स गर्म होकर टॉक्सिंस में बदल जाते हैं। 
मूंगफली का तेल 
  • देश में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जानेवाला तेल यही है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैट होता है। 
  • सेहत के लिए- अच्छा है। यह एलडीएल का स्तर कम करता है, लेकिन गुड कोलेस्टरॉल का स्तर सामान्य रखता है। 
  • तलने के लिए - अच्छा है। 
राइस ब्रैन ऑयल 
  • जापान और कोरिया में इस्तेमाल किया जानेवाला धान के छिलके से निकला तेल अब भारत में भी जगह बना रहा है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैट होता है। 
  • सेहत के लिए- बढ़िया है। इसमें ओरिजॉल भी होता है, जो एलडीएल को कम करता है। साथ ही नेचरल विटमिन ई और स्क्वैलीन भी पाया जाते हैं, जो त्वचा को यंग बनाते हैं। 
  • तलने के लिए- अच्छा है। 
  • यह मूंगफली तेल की तुलना में 12-20 प्रतिशत कम सोखा जाता है। 
ऑलिव ऑयल 
  • किसी समय केवल मेडिटेरियन देशों मसलन स्पेन, अर्जेंटीना जैसे देशों में काम आने वाला यह तेल अब दुनिया भर में अपने स्वाद के चलते पॉपुलर हो रहा है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैट होता है। यह कई प्रकार का होता है जैसे एक्स्ट्रा वर्जिन (ऑलिव को पहली बार कंप्रेस करके निकाला गया), वर्जिन (दूसरी बार प्रेस करके निकाला गया), प्योर (प्रोसेस किया) और एक्स्ट्रा लाइट (कम फ्लेवर वाला प्रोसेस्ड ऑयल)। 
  • सेहत के लिए- बढ़िया है। यह टोटल और एलडीएल कोलेस्टरॉल को कम करता है। यह शरीर में फैट डिस्ट्रिब्यूशन पर भी असर रखता है। पेट पर चबीर् जमा होने से रोकता है। 
  • तलने के लिए- अच्छा है। 
करडी तेल 
  • पॉलीअनसैचुरेटेड वाला करडी या सफोला तेल भी कई जगह प्रयुक्त होता है।
  • सेहत के लिए- अच्छा। 
  • तलने के लिए- सही नहीं है। 
नारियल तेल 
  • यह सैचुरेटेड फैट है, लेकिन वनस्पति तेल होने की वजह से इसमें कोलेस्ट्रॉल नहीं होता। 
  • सेहत के लिए- ठीक है। 
  • तलने के लिए - सही नहीं है। 
  • सलाह- दूसरे तेलों के साथ कॉम्बिनेशन में प्रयोग करें। 
पामोलिव ऑयल 
  • इसमें मोनोअनसैचुरेटेड फैट होता है, लेकिन लिनोलेइक एसिड की मात्रा कम होती है। इसे भी दूसरे तेलों के साथ कॉम्बिनेशन में प्रयोग किया जा सकता है। 
क्या है कोलेस्ट्रॉल 
  • कोलेस्ट्रॉल ब्लड में फैट के साथ पाया जाने वाला एक नर्म पदार्थ है, जो बॉडी एक्टिविटीज के लिए जरूरी है। यह तीन तरह का होता है- लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन, हाई डेंसिटी लिपोप्रोटीन, वेरी लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन। किसी भी वेजिटेबल फैट में कोलेस्ट्रॉल नहीं होता, लेकिन यह शरीर में कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को बढ़ाता है। देसी घी, मक्खन, मीट, अंडा, चिकन, शेलफिश और डेयरी उत्पादों में कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है। 
कौनसा  फैट किस काम का 
बैड फैट 
  • सैचुरेटेड फैट- यह टोटल कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल का स्तर बढ़ा देता है। 
  • ट्रांसफैट- यह एलडीएल का स्तर बढ़ाता है और एचडीएल का घटा देता है। 
गुड फैट 
  • मोनोअनसैचुरेटेड फैट- यह टोटल कोलेस्टरॉल और एलडीएल (बैड कोलेस्टरॉल) का स्तर घटाता है और एचडीएल (गुड कोलेस्टरॉल) का स्तर बढ़ाता है। 
  • पॉलीअनसैचुरेटेड फैट- यह टोटल कोलेस्टरॉल और एलडीएल का स्तर कम करता है।

2 comments:

  1. सेहतमंद जानकारी के लिए आभार. ..........

    ReplyDelete
  2. जानकारी के लिए आभार .. रक्षाबंधन की बधाई एवं शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete