सलाह

लिव-इन रहना चाहते हैं
मेरे बॉयफ्रेंड की उम्र 17 साल है और मैं उससे एक साल छोटी हूं। हम दोनों एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं और सही उम्र आने पर शादी करना चाहते हैं। लिव-इन के बारे में सुनने के बाद हम दोनों लिव-इन रहना चाहते हैं। हमें पता है कि इस बारे में सुनकर हमारे पैरंट्स बहुत नाराज होंगे, लेकिन इस बात को सीक्रिट रखने के हमारे पास बहुत सारे तरीके हैं। हम लोगों की प्लानिंग एक फ्लैट लेने की है और मैं एक दोस्त के तौर पर उससे मिलने वहां जा सकती हूं। पैसे की हमें कोई प्रॉब्लम नहीं है, लेकिन क्या यह सेफ प्लान रहेगा? 
एबीसी 



आप अपने रिश्ते में कुछ ज्यादा ही तेज भाग रहे हैं। लिव-इन भले ही आपको रोमांचक आइडिया लगे, लेकिन आप दोनों के बालिग न होने की वजह से आपके साथ-साथ आपके परिवार भी मुसीबत में फंस सकते हैं। फिर जो चीजें सोचने में आपको इतनी आसान लग रही हैं, वे इतनी आसान होंगी नहीं। फ्लैट खरीदने या किराए पर लेने में तमाम तरह का पेपर वर्क करना होगा, जिसमें आइडेंटिफिकेशन प्रूफ के साथ आपको दूसरी औपचारिकताएं भी पूरी करनी होंगी। ये भी आपके लिए बहुत मुश्किल होगा। इसलिए अपने रिलेशनशिप के मौजूदा दौर को एंजॉय करें। अपने दोस्त के साथ अच्छा वक्त गुजारें। इस तरह आप एक-दूसरे के बारे में काफी कुछ जान पाएंगे और तभी आपको यह भी पता लगेगा कि एक-दूसरे के साथ ज़िदगी बिताने का आपका फैसला कितना सही है।


रिअलिटी शो में जाना है 



मैं 15 साल की लड़की हूं और बहुत अच्छा गाती हूं। मैं कई सिंगिंग कॉम्पिटीशन भी जीत चुकी हूं और अब मैं रिअलिटी शोज में जाना चाहती हूं। लेकिन मेरे पैरंट्स इसके बिल्कुल खिलाफ हैं, क्योंकि इन शोज में जाने की वजह से मेरी पढ़ाई को नुकसान होगा। मुझे अपने टैलंट पर भरोसा है और मुझे लगता है कि मैं जीत जाऊंगी। फिर इस तरह जब मेरा करियर सेट हो जाएगा, तो मुझे पढ़ाई के बारे में ज्यादा सोचने की भी क्या जरूरत है। मेरे सभी फ्रेंड्स मुझे वहां जाने के लिए कह रहे हैं, लेकिन मुझे समझ में नहीं आ रहा कि मैं अपने पैरंट्स को इस बारे में कैसे समझाऊं? 
मधुमिता 


आपके टैलंट के बारे में जानकर वाकई खुशी हुई और आपका आत्मविश्वास भी वाकई तारीफ के काबिल है। आप अपने पैरंट्स के साथ इस बात को आराम से डिस्कस करें। उनकी बात भी बेकार नहीं है, क्योंकि इस तरह के शोज में वाकई बहुत वक्त और मेहनत चाहिए होती है। और अगर आप हार गईं, तो तब क्या होगा? इस बात को ध्यान में रखते हुए पढ़ाई को इग्नोर करने का आपका फैसला सही नहीं ठहराया जा सकता।

आप खुद को और अपने पैरंट्स को इस बात का भरोसा दिलवाएं कि आपकी पढ़ाई इग्नोर नहीं होगी और इसके बाद ही आप इस लाइन में आगे बढ़ने के बारे में सोचें।

0 comments: